Friday, February 7, 2020

उसने कहा था
आज गुलाब का दिन है
न गुलाब लेने का 
न देने का, 
बस गुलाब हो जाने का दिन है
आज गुलाब का दिन है
उसी दिन गुलाब सी तेरी सीरत से
गुलाबी हो गयी मैं ।
- दीप्ति शर्मा

Monday, January 27, 2020

सरहदों के मौसम एक से 
बस अलग था तो 
मार दिया जाना पंछियों का
जो उड़कर उस पार हो लिए

रंगनी थी दिवार
कि जब तक खून लाल ना हो
जमीन भींग ना जाए
और हम सोते रहें

देर रात जश्न मनाते 
शराब पी बे- सूद
अपनी औरतों को मारते
हम अलग नहीं

चौराहे 
अलग रंग के
अलग शहरों के 
घटना एक सी
रेप कर दिया
चाकू मार दिया
हम एक हैं अलग नहीं

ये खून हरा है
खून बहेगा तबतक
जबतक वो लाल नहीं होता
मरेगी औरतें, मारेगा आदमी
होंगे रेप
चलेंगे चाकू

आदमी सोच रहा
हम हरे खून वाले 
जब बहेंगे 
तब बहेगा जहर 
तो खून लाल कर दो देवता
या पानी बना बहा दो सब
आ जाने दो प्रलय
अब जलमग्न हो जाने पर ही धूल पाएगी दुनिया

हम हो पायेंगे इंसान
तब ये खून लाल होगा

Deepti Sharma

Monday, September 11, 2017

किसी की आत्मा के मर जाने से अच्छा उसका खुद मर जाना है क्योंकि इंसानियत रहेगी तभी इंसान भी बचा रहेगा।
#दुनिया के फेर में फँसी दीप्ति

Tuesday, September 5, 2017

मुस्कुरा रही हूँ मैं
तभी तुम कहते हो
हँस रहा हूँ मैं भी
पर !
तुम्हारे हँसने
और मेरे मुस्कुराने में
बहुत अंतर है,
एक स्त्री का मुस्कुराना
तुम समझ नहीं सकते।

#मन की बात करती दीप्ति

कल खाना बनाते हाथ जला तो यूँ ही कुछ लिखा

हाथ का जलना
क्रिया हुयी या प्रतिक्रिया !
सोच रही हूँ
कढाही में सब्जी पक रही
गरम माहौल है
पूरी सेंकने की तैयारी
आटा गूँथ लिया,
लोई मसल बिलने को तैयार
पूरियाँ सिक रहीं हैं
या यूँ कहूँ जल रही है
हाँ मैं उनको गर्म यातना ही तो दे रही
फिर हाथ जलना स्वभाविक है
अब समझी
ये क्रिया नहीं प्रतिक्रिया ही है

- दीप्ति शर्मा

Thursday, August 31, 2017

पर्वत पिघल रहे हैं
घास,फूल, पत्तीयाँ
बहकर जमा हो गयीं हैं
एक जगह
हाँ रेगिस्तान जम गया है
मेरे पीछे ऊँट काँप रहा है
बहुत से पक्षी आकर दुबक गये हैं
हुआ क्या ये अचानक
सब बदल रहा
प्रसवकाल में स्त्री
दर्द से कराह रही है,
शिशु भी प्रतिक्षारत !
माँ की गोद में आने को
तभी एक बहस शुरू हुई
गतिविधियों को संभालने की,
वार्तालाप के मध्य ही शुरू हुआ
शिशु का पिघलना
पर्वत की भाँति
फिर जम गया वहाँ मंजर
रूक गयी साँसें
माँ विक्षिप्त
मृत शिशु गोद में लिए
विलाप करती
ठंड में पसीना आना
आखिर कौन समझे
फिर फोन भी नहीं लगते
टावर काम नहीं करते
सीडियों से चढ़ नहीं पा रहे
उतरना सीख लिया है
कहा ना सब बदल रहा है
सच इस अदला बदली में
हम छूट रहे हैं
और ये खुदा है कि
नोट गिनने में व्यस्त है।
©दीप्ति शर्मा

Friday, May 5, 2017

ख्वाब में ही सही रोज़ आया करो...

ख्वाब में ही सही रोज़ आया करो
मेरी रातों को रौशन बनाया करो

ये मुहब्बत यूँ ही रोज़ बढती रहे
इस कदर धड़कनें तुम बढ़ाया करो

मैं यहाँ तुम वहाँ दूरियां हैं बहुत
अपनी बातों से इनको मिटाया करो

मुझको प्यारा तुम्हारा है गुस्सा बहुत
इसलिए तुम कभी रूठ जाया करो

मुझे घेरें कभी मायूसियां जो अगर
बच्चों सी दिल को तुम गुदगुदाया करो

तुमको मालूम है लोग जल जाते हैं
नाम मेरा लबों पे न लाया करो

जुड़ गयी ज़िन्दगी इसलिए तुम भी अब
नाम के आगे चर्चित लगाया करो

- VISHAAL CHARCHCHIT

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...