Monday, August 22, 2011

कुंवर प्रीतम का मुक्तक


उल्फत के वो नजराने,तुम्हारे पास ही अच्छे
तिजारत के सभी माने,तुम्हारे पास ही अच्छे
नयी खुशियां,नया जीवन,मुबारक हो नयी शोहरत
हमारे पास नहीं कुछ तो,हमारे ख्वाब ही अच्छे
कुंवर प्रीतम

2 comments:

Dr.Bhawna said...

bahut khub!

काव्य संसार said...

bahut khoob |

इस नए ब्लॉग में पधारें |
काव्य का संसार

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...