Saturday, December 24, 2011

चलो आज कुछ नया करे

चलो आज कुछ नया करे,
डर को भगा कर,
हार को आगाह करे,
लम्हो को माला मे पिरोकर,
यादो को ताज़ा करे,
चलो आज कुछ नया करे,

बादलो को चीरकर,
तूफानो से दोस्ती करे,
मौसमो को रोक कर,
हवाओ से आशिकी करे,
चलो आज कुछ नया करे,

कोरे कागज़ को पढ कर,
स्याही को रुस्वा करे,

दिल की बातो को सुनकर,
दिमाग को ठंडा करे,
चलो आज कुछ नया करे,

लब्जो को आराम देकर,
अहसासो से गुफ्तगू करे,
अदायगी के बजाये आज,
सादगी पर अपने को फिदा करे
चलो आज कुछ नया करे,
(चिराग )

2 comments:

Mamta Bajpai said...

हाँ हम भी यही सोचते हैं ..नए साल मैं कुछ तो नया करना ही चाहिए ..वैसे जीवन का हर पल ही तो नया होता है

NISHA MAHARANA said...

achchi planing.

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...