Saturday, January 28, 2012

ए बसंत तेरे आने से

ए बसंत तेरे आने से
नाच रहा है उपवन
गा रहा है तन मन
ए बसंत तेरे आने से ।

खेतों में लहराती सरसों
झूम रही है अब तो
मानो प्रभात में जग रही है
ए बसंत तेरे आने से ।

चिड़िया भी चहकती है
भोर में गीत गाती है
घर में खुशियाँ आती हैं
ए बसंत तेरे आने से ।

खिल गयी सरसों
बिखर गयी खूशबू
मनमोहक हो गया नज़ारा
ए बसंत तेरे आने से ।
,,,"दीप्ति शर्मा "

3 comments:

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

बहुत सुन्दर रचना ।
बसंत पंचमी और माँ सरस्वती पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ । मेरे ब्लॉग "मेरी कविता" पर माँ शारदे को समर्पित 100वीं पोस्ट जरुर देखें ।

"हे ज्ञान की देवी शारदे"

प्रवीण पाण्डेय said...

यह बसंत का प्यार भरा श्रंगार समझने की बेला है..

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत ही बढ़िया ।

बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।


सादर

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...