Saturday, September 1, 2012

आ प्रिये कि प्रेम का हो एक नया श्रृंगार अब.....


    आ प्रिये कि हो नयी 
            कुछ कल्पना - कुछ सर्जना,
                   आ प्रिये कि प्रेम का हो 
                          एक नया श्रृंगार अब.....

           तू रहे ना तू कि मैं ना 
                  मैं रहूँ अब यूं अलग
                        हो विलय अब तन से तन का 
                              मन से मन का - प्राणों का,
                                     आ कि एक - एक स्वप्न मन का
                                            हो सभी साकार अब....

    अधर से अधरों का मिलना
         साँसों से हो सांस का,
                हो सभी दुखों का मिटना
                        और सभी अवसाद का,
                               आ करें हम ऊर्जा का
                                     एक नया संचार अब.....

          चल मिलें मिलकर छुएं
                 हम प्रेम का चरमोत्कर्ष,
                          चल करें अनुभव सभी
                                आनंद एवं सारे हर्ष,
                                      आ चलें हम साथ मिलकर
                                            प्रेम के उस पार अब....

     ध्यान की ऐसी समाधि
         आ लगायें साथ मिल,
                प्रेम की इस साधना से
                       ईश्वर भी जाए हिल,
                             आ करें ऐसा अलौकिक
                                      प्रेम का विस्तार अब....

                                    - VISHAAL CHARCHCHIT

3 comments:

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) said...


आज 03/09/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

Saras said...

बहुत सुन्दर पहल विशालजी ...रिश्तों को तरोताजा रखने की बेमिसाल कोशिश .....बहुत सुन्दर

Madan Mohan Saxena said...

बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...