Wednesday, October 24, 2012

यथार्थ के नीले गगन में
बह रहें हैं भाव मेरे
पीर परायी सुन सुनकर
दिल में उपजे हैं घाव मेरे
सुनो जरा क्या हुआ है देखो
तुम बन गये हो हमराज मेरे
मधुर गीत सुनकर तुम्हारे
गूँज उठे हैं राग मेरे
तराशा है खुद को तुम्हारे लिये
तुम बन गये हो अभिमान मेरे
©दीप्ति शर्मा

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत ही सुन्दर रचना..

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...