Wednesday, September 7, 2011

आज मेरा गम, तेरे गम सा क्यूँ है ?


आज मेरा गम, तेरे गम सा क्यूँ है ?
हम सब सुरक्षित है, यह वहम सा क्यूँ है ?
जख्म बन चुका है नासूर
पर वो ही पुराना मरहम सा क्यूँ है ?

बेकसूरों को मुआवजा , जान कि कीमत ?
और खुनी को बिरयानी , दामाद सी आवभगत
इस देश में ऐसा, नियम सा क्यूँ है ?
आज मेरा गम, तेरे गम सा क्यूँ है ?

गांधी भी चुप हैं , और भगतसिंह भी मौन है
सब जानते है पता कातिल का ....
पर सब "बन" के पूछ रहें है, कि अपराधी कौन है ?
आँख बंद करने से मौत टल जायेगी, तुझे ऐसा भ्रम सा क्यूँ है ?
आज मेरा गम, तेरे गम सा क्यूँ है ?

इन सफेदपोशों को, आईना भी, चेहरा कैसे दिखा देता है ?
बेशर्मी इतनी लहू में इनकें , लाशों पे राजनीति करना सीखा देता है
मारें तुने बेगुनाह हजारों , कभी कोर्ट में कभी फोर्ट में , कभी रोड पे कभी मोड़ पे
पर यह तो बता , इन सफेदपोश गद्दारों पे तेरा रहम सा क्यूँ है ?
आज मेरा गम, तेरे गम सा क्यूँ है ?
हम सब सुरक्षित है, यह वहम सा क्यूँ है ?

3 comments:

POOJA... said...

bahut khoob...
aaj jo hua usey kitne acchhe se chitrit kaiya hai... aaj hamare desh ki wakai haalat bahut kharab hai...

kiran said...

ek ek sabd bahut chun kar istemal kiye hai. or sari baat ko chand ko samet diya hai..
great job.............

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

Bahut siundar rachna. Kya khun likha hai aapne.
Yaha bhi padharen-

"मेरी कविता"

"काव्य का संसार"

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...