Saturday, January 14, 2012

मुझे जन्म दो


(यह कविता मेरे द्वारा लिखी हुई नहीं है, पर एक डॉक्टर के क्लिनिक में मैंने इसे देखा तो सोचा कि सबके साथ साझा करना चाहिए और मैंने इसे लिख लिया | कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए सबको जागरूक करने हेतु इस रचना का प्रयोग किया जाता है |)


हुमक हुमक गाने दो मुझको,
यूँ मत मर जाने दो मुझको,
जीवन भर आभार करुँगी,
माँ मैं तुमसे प्यार करुँगी,
मैं तेरी ही बेटी हूँ माँ,
मुझे जन्म दो, मुझे जन्म दो |

मैं भी तो हूँ अंश तुम्हारा,
मैं भी तो हूँ वंश तुम्हारा,
पापा को समझाकर देखो,
सारी बात बताकर देखो,
बिगड़ा है अनुपात बताओ,
क्या होंगे हालात बताओ,
फिर भी अगर न माने पापा,
रोउंगी मनुहार करुँगी,
जीवन भर आभार करुँगी,

मुझे जन्म दो, मुझे जन्म दो |


लक्ष्मी बाई, मदर टेरेसा,
क्या कोई बन पाया वैसा,
मत कहना एक धाय है पन्ना,
ममता का अध्याय है पन्ना,
ये बातें बतलाओ अम्मा,
दादी को समझाओ अम्मा,
सब गुण अंगीकार करुँगी,
जीवन भा आभार करुँगी,

मुझे जन्म दो, मुझे जन्म दो |

अन्तरिक्ष में जाकर के माँ,
रोशन तेरा नाम करुँगी,
जो-जो बेटे कर सकते हैं,
हर वो अच्छा काम करुँगी,
नाम से तेरी जानी जाऊं,
ये मैं बारम्बार करुँगी |
माँ मैं तुमसे प्यार करुँगी,
मुझे जन्म दो, मुझे जन्म दो |

14 comments:

vidya said...

too good..
i'm speechless.

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत ही प्यारी कविता है, बस यही चेतना चारों ओर फैले

दिगम्बर नासवा said...

दिल को छूती हुयी ... मासूम दिल की पुकार ... सुन्दर कविता ...

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

कल 17/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

Geeta said...

sach mei dil ko chu jane wali kavita, boht dukh hota hai kanya brun hatya ke bare mei sunkar

कुश्वंश said...

दिल को छूती हुयी सुन्दर कविता

अतुल प्रकाश त्रिवेदी said...

मुझे जन्म दो , मुझे जन्म दो
तुम जब जननी हो
पापा को समझाकर देखो
अपनी बात बताकर देखो
मैं अपना अधिकार करूँगी
नहीं किसी का मनुहार करूँगी
मैं झांसी की रानी हूँ
शब्दों को भी हथियार करूँगी

अति सुन्दर पक्तियां , बस इधर उधर हो गयी हैं . शायद आप का तरीका काम आये .
सीधी साधी बात , सीधी साधी कविता .
संस्थापिका , यही नाम है तुम्हारा साहसी कन्ये !! अभिनन्दन !!


वाह बहुत उम्दा . आपकी रचना पढ़वाने के लिए धन्यवाद शुभकामनायें

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुन्दर रचना .. जागरूक करती हुई ..

Reena Maurya said...

dil ko chhu lenewali rachana hai ye..
sahi bat hai jo bete kar sakate hai wo betiya bhi...
behtarin..

praveen said...

बहूत बढिया ।

Dinesh Kumar said...

heart touching

Nilesh said...

kya kahu
apke har ek shabd me jadu hai.
bahot sara samman apko. .





Nilesh badode
class 12th

Nilesh said...

bht madhur

Anonymous said...

Aisi bhavna kash sbhi k dilo ms bas jaye . Aakhir kb tak ladkio ka jeevan yuhi khtm krte rhnge ? Ab to aankhe khole band kro kanya bhrun hatya

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...