Monday, May 21, 2012

तू हो गयी है कितनी पराई

अथाह मन की गहराई
और मन में उठी वो बातें
हर तरफ है सन्नाटा
और ख़ामोश लफ़्ज़ों में
कही मेरी कोई बात
किसी ने भी समझ नहीं पायी
कानों में गूँज रही उस
इक अजीब सी आवाज़ से
तू हो गयी है कितनी पराई ।

अब शहनाई की वो गूँज
देती है हर वक्त सुनाई
तभी तो दुल्हन बनी तेरी
वो धुँधली परछाईं
अब हर जगह मुझे
देने लगी है दिखाई
कानों में गूँज रही उस
इक अजीब सी आवाज़ से
तू हो गयी है कितनी पराई ।

पर दिल में इक कसर
उभर कर है आई
इंतज़ार में अब भी तेरे
मेरी ये आँखें हैं पथराई
बाट तकते तेरी अब
बोझिल आहें देती हैं दुहाई
पर तुझे नहीं दी अब तक
मेरी धड़कनें भी सुनाई
कानों में गूँज रही उस
इक अजीब सी आवाज़ से
तू हो गयी है कितनी पराई ।

© दीप्ति शर्मा

3 comments:

दिगम्बर नासवा said...

ये जीवन की रीत है ... इक दिन तो सभी पराये हो जाते हैं ...

Chirag Joshi said...

bahut hi shandar poem
kavita ke bhav bade acche hain

Thanks
http://drivingwithpen.blogspot.in/

प्रवीण पाण्डेय said...

सामाजिक जीवन में मानवीय संवेदनाओं को तलाशती कविता..

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...