Monday, May 28, 2012

याद आये रात फिर वही

 
अहद तेरा यूँ लेकर दिल में
याद आये रात फिर वही
बदगुमान बन तेरी चाहत में
अपने हर एहसास लिये मुझे

याद आये रात फिर वही
अनछुये से उस ख़्वाब का
बेतस बन पुगाने में मुझे
याद आये रात फिर वही
उनवान की खामोशी में
सदियों की तड़प दिखे और
याद आये रात फिर वही
तेरे ख़्यालों में खोयी
ये जानती हूँ तू नहीं आयेगा
फिर भी मुझे,
याद आये रात फिर वही
याद आये बात फिर वही ।
© दीप्ति शर्मा

3 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत खूब..

दिगम्बर नासवा said...

तू आए न आए तेरी याद आयगी हमेशा ...

संजय भास्कर said...

"ला-जवाब" जबर्दस्त!!

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...