Sunday, August 14, 2011

ये कैसी आजादी ?


              कहीं  घोटाला , कहीं हवाला,
              आतंक ने देश खंगाला,
              बारूद पर बैठा अपना देश,
              जात-पात, वेश-भूषा में दिया सन्देश;


              भूल गए हम हैं  भारतवास,
              कोई बिहारी, कोई मराठी, कोई है मद्रास;
              चारो तरफ बैर और द्वेष,
              प्यार कहाँ जब....बैठे प्रदेश;


              संयुक्त से एकल हुए,
              दादा-दादी, चाचा-चाची,
              अब बीते कल हुए;
             मांस-मदिरा में डूबा संसार,
             सात्विकता का लुटा बाज़ार;



             आजाद है हम.....
             पर खुद को कैसे बताये,
             कितने बर्बाद है हम;


             गाँधी सुभाष ने देखी थी जो तस्वीर,
             सब ताक पर रख गए, आज के वीर;
             नेताओं ने किया देश का बंटा धार,
             पर इसके, हम खुद ही जिम्मेदार |


कवि परिचय:
सुमीत सिन्हा
गिरिडीह
झारखण्ड

3 comments:

kshama said...

Swatantrata diwas kee anek shubh kamnayen!

आशा said...

स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
आशा

Raj kumar said...

bahut khub likhatay hai aap shahab

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...