Wednesday, February 13, 2013

छोटी पत्तियाँ



उन छोटी पत्तियों पर 
गिर जाती है ओस
कोहरा सूखा देता है उन्हें 
और पतझड़ गिरा देता है 
शायद ये ही उनकी नियति  है ।
                                                     
- दीप्ति शर्मा

5 comments:

धीरेन्द्र अस्थाना said...

शायद !

Madan Mohan Saxena said...

बहुत सुन्दर .

बक्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं
कल तलक था जो सुहाना कल बही विकराल हो ...

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) said...

बहुत बढ़िया

annapurna said...

good effort .

Asha Lata Saxena said...

संक्षेप बहुत कुछ कहती पंक्तियाँ

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...