Wednesday, February 13, 2013

छोटी पत्तियाँ



उन छोटी पत्तियों पर 
गिर जाती है ओस
कोहरा सूखा देता है उन्हें 
और पतझड़ गिरा देता है 
शायद ये ही उनकी नियति  है ।
                                                     
- दीप्ति शर्मा

5 comments:

धीरेन्द्र अस्थाना said...

शायद !

Madan Mohan Saxena said...

बहुत सुन्दर .

बक्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं
कल तलक था जो सुहाना कल बही विकराल हो ...

Yashwant Mathur said...

बहुत बढ़िया

Annapurna Bajpai said...

good effort .

Asha Saxena said...

संक्षेप बहुत कुछ कहती पंक्तियाँ

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...